gardan ke dard ka ilaj in hindi

Gardan Ke Dard Ka Ilaj In Hindi:-अक्सर ज्यादा काम कर लेने से या थकान की वजह से शरीर के कई हिस्सों में दर्द होना ,बेहद आम बात है |लेकिन गर्दन का असहनीय दर्द नस पर नस चढने के कारण, और गर्दन में झटके आने के कारण या फिर ज्यादा देर तक एक ही जगह गर्दन को टिकाकर रखने से भी गर्दन में दर्द हो जाता है| इसके अलावा गर्दन में गुम चोट का होना , सर्वाइकल के कारण भी कई बार गर्दन में दर्द होने लगता है|इससे बचाब के लिए आपको अपने तंत्रिका तंत्र को दुरुस्त करना और आहार में जरुरी पोषक तत्वों को शामिल करना जरुरी है| इसके अलावा हमारे बताएं अचूक और सरल नुस्खें अपनाकर भी आप गर्दन के दर्द से अपना बचाब कर सकते है|

क्यों होता है गर्दन में दर्द-सोते समय बरती गई असावधानियां, मांसपेशियों पर अधिक दबाव पड़ना , अधिक वजन उठाना,एक ही जगह गर्दन को टिकाकर रखना,कमजोर मांसपेशियों के कारण, डबल चिन आने के कारण, मांसपेशियों में सूजन और घाव होने के कारण गर्दन में दर्द होने लगता है|

क्या होता है गर्दन का दर्द(Gardan Ke Dard Ka Ilaj In Hindi) अक्सर ज्याद वजन उठा लेने से और सोने बैठने की गलत आदतों की वजह से गर्दन की मांसपेशियों में जकड़न और खिंचाव के कारण सूजन आ जाती है जिससे गर्दन में असहनीय दर्द उत्पन्न होने लगता है|

गर्दन में दर्द के लक्षण-जब कभी आपकी गर्दन ठीक से मुड़े नही या गर्दन में जकड़न और खिचांव महसूस होना गर्दन में दर्द होने के लक्षण है|

गर्दन के दर्द के इलाज (Gardan Ke Dard Ka Ilaj In Hindi)

जलचिकित्सा– गर्दन का दर्द ठीक करने का सबसे सरल और अचूक इलाज जलचिकित्सा है जिसमें घाव और दर्द वाले स्थान पर ठण्डे और गर्म पानी की बौछार मारी जाती है|पानी की ये बौछार अपने रक्त परिसंचरण को ठीक करती है और दर्द को कम करके आपको राहत पहुंचाने का काम करती है|

व्यायाम – आपकी मांसपेशियों में खिंचाव और जकड़न के कारण आपकी गर्दन में दर्द होने लगता है , जिसमें व्यायाम सबसे अच्छा विकल्प है जो कि आपकी मांसपेशियों में खून के पर्वाह को बेहतर बनाकर दर्द से छुटकारा दिलाता है|

उचित आहार- शरीर में हड्डियों और मांसपेशियो की कमजोरी के कारण शरीर के कई हिस्सों में दर्द और जकड़ने हो जाती है |इसके लिए शरीर को विटामिन डी और कैल्शियम की आवश्यकता होती है |इसलिए आहार की जटिलताओं को दूर करके गर्दन और अन्य दर्द से निजात पाया जा सकता है

इसके अलावा गर्गन से मुक्ति के घरेलू इलाज भी जरुर अपनाएं –(Gardan Ke Dard Ka Ilaj In Hindi)

  • अरंडी के तेल में लहसून की कुछ कलियां मिलाकर इसे हल्का गर्म करें और 10 से 20 मिनट तक दर्द वाले स्थान पर मसाज करें , लेकिन मसाज करते समय मांसपेशियों पर ज्यादा दबाव ना पड़े इसका ख्याल रखें|रोजाना इस तेल की मालिश से आपको एक हफ्ते में ही इसका फर्क दिखने लगेगा|
  • अजवायन, तिल और तारपीन के तेल को हल्का गर्म करके इससे अपने गर्दन के दर्द वाले हिस्सों पर 20 से 25 मिनट तक हल्के हाथों से मसाज करें आपको तेल में मौजूद गर्म हर्बस से दर्द से मुक्ति मिलेगी|
  • जैतून के तेल में 2-4 लौंग मिलाकर इसे हल्का गर्म करें और फिर इस तेल से आप रोजाना अपनी गर्दन की मालिश करें करीब 20 मिनट की नियमित मालिश से आपका गर्दन का दर्द मिनटो में छूमंतर हो जाएगा|

 गर्दन में ये दर्द अगर आपको एक हफ्ते से ज्यादा परेशान करने लगा है तो फिर ये गर्दन से जुडी अन्य गंभीर परेशानियों की तरफ इशारा करता है जैसे कि गर्दन में गांठ ,ग्रंथियों में सूजन और जकड़न आदि होना |इसके अलावा गर्दन में दर्द सर्वाइकल को प्रभावित करने वाला ये दर्द सर्वाइकल स्पोंडिलोसिसि कहा जाता है| जिसमें दर्द गर्दन के निचले हिस्सो से दोनों कंधों और कालर बान तक पहुंच जाता है |ऐसे में इस दर्द को कम करने के लिए अपने शारीरिक भार को कम करने के साथ और मांसपेँशियों का दबाव गर्दन पर कम करने के लिए व्यायाम करना अनुकूल रहता है |

(Gardan Ke Dard Ka Ilaj In Hindi) आपकी गर्दन के दर्द का इलाज कैसे आपकी जिंदगी से होगा बाहर, इसके लिए हमने आपको दी इसकी सटीक और महत्वपूर्ण जानकारी | तो अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगती है तो जरुर इसे लाइक , शेयर और कमेंट करें|

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here