khooni bawasir ka desi ilaj in hindi

Khooni Bawasir Ka Desi Ilaj In Hindi:- खूनी बवासीर और पाइल्स एक खतरनाक बीमारी है , जोकि खाने पीने की गलत हरकतों और पेट से मलमूत्र की दैनिक क्रियायों में उत्तर चढा़व की वजह से होती है , कही जगहों पर इसे महेशी नाम से भी जाना जाता है | ये दो प्रकार की होती है – खूनी बवासीर और बादी बवासीर | खूनी बवासीर में पहले पखाने में लग के, फिर टपक के, फिर पिचकारी की तरह से खून आने लगता है |इसके अलावा बादी बवासीर में पेट में गैस और कब्ज बनी रहती है। लेकिन खूनी बवासीर में टट्टी कड़ी आने के साथ इससे खून भी आने लगता है|खूनी बवासीर में रोगी को जलन, दर्द, खुजली, शरीर में बेचैनी, काम में मन न लगना इत्यादि परेशानियां होने लगती है |लेकिन हमारे द्वारा बताये गये आसान उपाए आपको खून बवासीर से मुक्ति दिलाने में मदद करेंगे |

खूनी बवासीर से बचने के उपाए – (Khooni Bawasir Ka Desi Ilaj In Hindi)

1 जीरे का लेप बनाकर इसे अपने अर्श पर करने से खूनी बवासीर में लाभ मिलता है |जीरे में शक्कर और घी मिलाकर खाने से , साथ ही गर्म आहार के सेवन से परहेज करने से भी खूनी बवासीर में लाभ मिलता है |

2 बड का दूध रक्तप्रदर और खूनी बवासीर का रक्तस्राव बंद कर देता है |जिससे रोगी को आराम मिलता है |

3 अनार के छिलके का चूर्ण नागकेशर के साथ मिलाकर यदि खूनी बवासीर के रोगी को दिया जाये |तो खुनी बवासीर से छुटकारा मिलता है |

4 अंजीर को पानी में भिगो कर इसका सेवन सुबह शाम लगातार एक माह तक करने से खूनी बवासीर रोगी को लाभ मिलता है |

5 एक गिलास छाछ में अजवायन और एक ग्राम सेंधा नमक मिलाकर अगर खूनी बवासीर के रोगी को पिलाया जाये तो , (Khooni Bawasir Ka Desi Ilaj In Hindiखूनी बवासीर के नष्ट हुए मस्से दोबारा उत्पन्न नहीं होते है |

6 जटा वाला नारियल लें और इसे आग पर जला कर भस्म कर दे |इसकी भस्म को कांच की शीशी में भरकर रख ले , फिर सुबह शाम इसको दही या छाछ के साथ इसका सेवन दिन में तीन बार करे |आपकी पुरानी से पुरानी खूनी बवासीर खत्म हो जाती है |

khooni bawasir ka desi ilaj in hindi

7  खूनी बवासीर के रोगी को खाने में दलिया, दही चावल, मूंग दाल की खिचड़ी, और देशी घी का सेवन जरुर करवाएं |

8 फलों में केला, कच्चा नारियल, आंवला, अंजीर, अनार,  और पपीता खूनी बवासीर के रोगी की डाइट में जरुर शामिल करवाएं|

9 एक पका केला लें इसे बीच से चीर के इसमें गेहू के दाने के बराबर कपूर मिलाये | फिर इसे शाम को छत पर रख दें |शोच करने के बाद लगातार एक हफ्ते तक इसका सेवन करें, आपकी खूनी बवासीर ठीक हो जाएगी |

10 हल्दी और पेट्रोलियम जेली लें , इसको मल त्याग करने से कुछ समय पहले अपने गुदा पर लगाये जेली आपके गुदा मार्ग को चिकना बनाएगी और हल्दी अंदरूनी घावों को भरने में असरदार साबित होगी |

11 एक चम्मच हल्दी में एलोवीरा जेल को मिक्स करें और रात को सोने से पहले अपने गुदा के अन्दरुनी भाग पर लगाएये , एक हफ्ते तक ऐसा करने से आपके खूनी बवासीर का रोग खत्म हो जाएगा|

12 हल्दी और देसी घी ले और इसे मिक्स करके अपने गुदा पर लगा लीजिये आपको खूनी बवासीर के रोग में राहत मिलेगी |

13 कच्चा प्याज खूनी बवासीर में बड़ा लाभकारी साबित होता है |कच्चा प्याज,(Khooni Bawasir Ka Desi Ilaj In Hindi) दही और छाछ ले और मिक्स करें | इससे सप्ताह में 2 बार के अंतराल पर खाएं आपको खूनी बवासीर में आराम मिलेगा |

14 जैतून के तेल में जलनरोधी गुण पाए जाते है | जो की बवासीर नाम के रोग में भी बड़े ही लाभकारी साबित होते है |ये तेल खून की धमनियों को बढा़कर , मल के कठोर होने को रोकता है |

15 इलायची को तवे पर भून के इसे पीसकर इसका चूर्ण बना लें |और फिर ठंडी होने पर इससे पानी के साथ दो दो चम्मच करके सुबह शाम इसका सेवन करें |

ये करने से बचें –

  • खूनी बवासीर रोगियों को धूम्रपान और शराब के सेवन से परहेज करना चाहिए |
  • तेल और मसालेदार खाने से बचे |
  • पेट से जुडी बीमारियों से बचे- जैसे कब्ज़ और गैस  
  • कैफीनयुक्त पदार्थो के अधिक सेवन से बचे  
  • डिब्बा बंद भोजन, और आलू, बैंगन खाने से बचे |

आजकल खाने पीने में बरती गयी असावधानी से पेट में कब्ज़ और गैस जैसी परेशानियां बढ़ने लगती है| जिसके परिणामस्वरुप खूनी बवासीर जैसी खतरनाक बिमारी उत्पन्न होने लगती है | आमतौर पर भारी वजन उठाने वाले या देर तक एक ही जगह खड़े रहकर काम करने वाले लोग जैसे बस कंडक्टर, ट्रॉफिक पुलिस, पोस्टमैन, कुली और मजदूरों में ये रोग जल्दी होता है |

(Khooni Bawasir Ka Desi Ilaj In Hindiआज हमने आपको खूनी बवासीर से मुक्ति के कुछ घरेलू उपाये बताये जोकि कब्ज और अनुवांशिक ,लक्षणों के कारण पैदा होता है….तो पढ़ते रहिए हैल्थ से जुड़े हमारे सभी पोस्टस|

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here