pagal kutte ke lakshan in hindi

Pagal Kutte Ke Lakshan In Hindi:-क्या आप कुत्ता पालने का शौक रखते है या फिर आप कुत्ते की बुलंद आवाज सुनकर ही सहम से जाते है दोनों ही सूरतो में आपको इस बात की पूरी जानकारी हासिल होनी चाहिए, कि कुत्ते के काटने से कौन कौन सी बिमारियां और बचाब के लिए किन सावधानियों को बरर्तने की आवश्यकता पड़ती है|आपने अपने आसपास ऐसे कुत्तो को देखा होगा जोकि बिना बात ही आने जाने वाले मुसाफिरो पर भौंकने और घुर्राने का काम करते है , तो जरा संभल जाइए जनाब क्योकि ये ऐसे आवारा कुत्ते हो सकते है जो कि अगर आपको काट ले, तो आपको रैबीज जैसे जानलेवा रोग होने का खतारा हो सकता है| इसके साथ ही आप पागल भी हो सकते है|अक्सर गर्मियों की शुरुआत में ऐसे कुत्तों की संख्या बेहद बढ़ जाती है, हालांकि सरकार इन आवारा पशुओ को एंटीसेप्टिक इंजेक्शन और रैबिज के वैक्सीन लगवाने का दावा करती है |लेकिन इसके बाद भी कुछ आवारा और पागल कुत्ते इनसे वंछित रह जाते है और लोगो को अपना शिकार बना लेते है|ऐसे में ये पागल और आवारा कुत्ते आपका कोई नुकसान ना कर पाए इसके लिए हम आपको इनकी पहचान के कुछ लक्षणों से रुबरु करवाएंगे|

पागल कुत्ते की पहचान के लक्षण (Pagal Kutte Ke Lakshan In Hindi)

  • व्यवहार- कुत्ता खांसना , छींकना चिड़चिडा कर या फिर खिसीयाकर आपको को देखे तो आप समझ लीजिए कुत्ते के पागल होने के संकेत आपके लिए ठीक नहीं है तुरंत ऐसे कुत्ते से दूरी बना लीजिए|
  • मसूडे- अक्सर आवारा कुत्तों की जीभ बाहार और मुंह से लार निकलती रहती है, मसूडो का पीलापन , सफेद रंग, भूरा पन और मसूडो से खून निकलना पागल कुत्ते के लक्षण माने जाते है|
  • खुजली होना- ऐसे कुत्ते जो कि किसी संक्रणण या बिमारी से पीड़ित होते है ,जिनके शरीर पर लाल लाल जख्म के धब्बे दिखाई पड़े और खुजली करते दिखे तो ऐसे कुत्तो से दूर रहे यह कुत्ते कभी भी आक्रामक होकर आप पर हमला कर सकते है
  • पानी से डरना- पागल कुत्ते का सबसे बड़ा लक्षण यह है कि वह पानी देखते ही डरने लगता है और गर्दन में ऐंठन होना भी ऐसे कुत्ते में पाया जाता है, (Pagal Kutte Ke Lakshan In Hindi) रैबीज से पीड़ित कुत्तों की मौत पांच से छः दिन के भीतर ही हो जाती है|
  • मुंह से झाग निकलना-कुत्ते की चमड़ी पर हुए घाव शरीर में बैक्टीरीया के रुप में स्नायु तंत्र फैलनेलगते है जिससे जल्द ही कुत्ते के मुंह से झाग निकलने लगते है और जोर जोर से भौंकने के साथ ही कुत्ते की एक सप्ताह के भीतर मौत हो जाती है|

कुत्ते के पागल होने का कारण- कुत्तों के पागल होने के पीछे मुख्य कारण हीट स्ट्रॉक है, अधिक समय तक धूप में रहने के कारण इनमें पानी की कमी हो जाती है ऐसे में ये कुत्ते खिसीयाकर इधर उधर भौंकते हुए घूमते रहते है इनकी जीभ बाहर निकली रहती है और जीभ से लगातार लार टपकती रहती है, कुत्ते के काटने पर आमतौर पर एंटी रेबीज के 4 डोज दिए जाते है|जो कि काटने वाले दिन , फिर दूसरा 3 तीन बाद तीसरा 7 दिन बाद और अन्तिम वैक्सीन 24 दिन बाद लगाया जाता है|

ऐसा कुत्ता जिसे रैबीज रोग हो पागल कुत्ता कहलाता है , यह एक प्रकार का वायरस होता है जो कि हवा और किसी जंगली जानवर के कारण कुत्ते तक पहुंचता है|इस रोग के कारण कुत्ता सुस्त और उसे बुखार हो जाता है|करीब चार से छः हफ्तो में कुत्ते के स्नायु तंत्र तक इस वायरस का प्रभाव फैलने लगताहै|और कुत्ते को बुखार रहने के साथ ही उसके मुंह से झाग भी आने लगते है |जिसके उपरान्त धीरे धीरे कुत्ते की मृत्यु हो जाती है|

(Pagal Kutte Ke Lakshan In Hindi) कुत्ते पालने से पहले उनके बारे में पूरी जानकारी रखना जरुरी है, इसलिए हमने आपको कुत्तो से जुड़ी ऐसी कई अहम बाते बताई जिसको जानकर आप पागल और आवारा कुत्तों से खुद की रक्षा कर पाएंगे…हमारे द्वारा दी गई जानकारी अगर आपको अच्छी और फायदेमंद लगी तो इसे जरुर अपनाए और लाइक , शेयर करना ना भूले हमारे सभी आर्टिकल्स

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here