Sir Dard Ke Upay In Hindi

Sir Dard Ke Upay In Hindi:- अगर आप भी रोज़मर्रा के तनाव से परेशान हैं और सिरदर्द से पीड़ित हैं तो ये आसान घरेलू उपायों से आप इस सिरदर्द से निजात पा सकते हैं | वैसे तो सिरदर्द के कई कारण होते हैं, आज की व्यस्त दुनिया में तनाव और अनिद्रा भी सर दर्द के बड़े कारण हैं | ऐसा शायद ही कोई व्यक्ति होगा जिसे कभी सिरदर्द नहीं हुआ हो| अक्सर हर उम्र के लोगों में यह रोग देखने को मिल जाता है, यह कोई बड़ा रोग तो नहीं है लेकिन असमय सर दर्द से पीड़ित होना, एवं बार बार एक ही जगह सर दर्द होना चिंता का विषय बन सकता हैं |सिर दर्द एक ही बीमारी है लेकिन अलग अलग लोगों में ये अलग अलग प्रकार से सामने आता है, ये कई प्रकार का हो सकता है-

सिरदर्द के प्रकार (Sir Dard Ke Upay In Hindi)

सामान्य सिर दर्द

यह तनाव, अनिद्रा के कारण होता है, इस प्रकार के सिर दर्द में सिर के दोनों हिस्सों में बराबर एवं माध्यम सिर दर्द होता है | इस अवस्था में आपको गर्दन से सिर तक दर्द का प्रसार होता है |

माइग्रेन सिरदर्द

यह सिर दर्द से संबंधित एक बीमारी है,(Sir Dard Ke Upay In Hindi) इसमें आपके सिर में एक भाग में माध्यम से तीव्र दर्द होता है | इस प्रकार के सिर दर्द में रोगी को चक्कर तथा उल्टियां भी होती है | माइग्रेन अक्सर एक ही काम से ग्रसित लोगों को ज्यादा प्रभावित करता है |

Sir Dard Ke Upay In Hindi

रिबाउंड सिरदर्द

इस प्रकार का दर्द आप जब जुखाम से ग्रसित हो तब अधिक होता है, इस प्रकार के सिर दर्द में आपको अक्सर नाक-बंद और घबराहट का अनुभव होता है |

क्लस्टर सिरदर्द

यह सिर दर्द का एक अत्यंत भयंकर प्रकार है जिसमे एक तरफ के आँख कान तथा सिर में दर्द होता है इस प्रकार के सिर दर्द में आँख से पानी निकलना एवं सूजन आदि दिखाई देने  लगती  है |

इनके अलावा अगर आपको बहुत तेज सिर दर्द होता है तो इसका तुरंत ही चिकित्सक से उपचार कराएं,(Sir Dard Ke Upay In Hindi) जैसा की हम आपसे हमेशा ही कहते है सही समय पर सही जानकारी एवं सही उपचार से आप अपने रोग से निजात पा सकते हैं|

आइये कुछ सामान्य लक्षणों के साथ जानते हैं की आपको होने वाला यह सर दर्द सामान्य है या किसी बड़ी बीमारी का सूचक  –

सिरदर्द के कारण

  • तनाव
  • अनिद्रा (नींद पूरी न होना )
  • टेंशन (आवश्यकता से अधिक चिंता करना)
  • पुरानी चोट के कारण (मस्तिष्काघात)
  • शरीर में पानी की कमी
  • तेज भूख लगने से (समय पर भोजन न करने से )
  • शराब, कैफीन या शुगर की मात्रा में वृद्धि से
  • मांसपेशियों में सिकुड़न भी सिरदर्द का एक बड़ा कारण है
  • आँखों में दर्द (देर तक मोबाइल / कम्प्यूटर स्क्रीन पर काम करना)
  • थकावट और धुप में घूमना

इसके अलावा कई अन्य कारण जैसे गैस (कब्ज), महिलाओं के मासिक धर्म का समय,कैफीन, सायनस, एलर्जी और  अधिक नशा एवं अधिक दवाओं का सेवन भी सर दर्द का कारण हो सकता है|

वैसे तो हमारे घर की रसोई में ही सिरदर्द से निपटने के कई नुस्खे हैं और आयुर्वेद में में भी सिर दर्द के इलाज़ के लिए कई रामबाण उपाय है, (Sir Dard Ke Upay In Hindi) तो जानते हैं, ककुछ आसान तरीके जिनकी मदद से आप आसानी से सिरदर्द का उपचार कर सकते हैं |

सिरदर्द का उपचार

1. तुलसी के पत्ते

अगर आपको बहुत तेज सिर दर्द हो रहा हैं एवं इसका कारण कैफीन हैं तो आप तुलसी की कुछ पत्तियां ले इसे पानी में उबाल ले, अब इसका सेवन करें आपको सिर दर्द से राहत मिलेगी|

2.लौंग

४ – ५ लौंग लीजिये इन्हें तब पर गरम कर लीजिये, अब इन्हे एक कपडे में बांधकर सूंघते रहिये, आपको सिरदर्द में लाभ मिलेगा | और ताजगी का अनुभव होगा

3. काली मिर्च एवं पुदीना

काली मिर्च एवं पुदीने को मिलगर पानी में उबाल ले अब इस चाय का सेवन करें आपको लाभ होगा | इसके अलावा आप ब्लैक टिया में भी पुदीने के पत्ते डालकर इसका सेवन कर सकते हैं आपको लाभ होगा |

4. एक्यूप्रेशर तकनीक के द्वारा

एक्यूप्रेशरकी मदद से आप अपने बढ़ते हुए सिरदर्द से निजात प् सकते हैं इसके लिए आप  अपनी दोनों हाथों की हथेलियों को अपने सामने ले आइए,(Sir Dard Ke Upay In Hindi) और इसके बाद अपने एक हाथ से दूसरे हाथ के अंगूठे और तर्जनी (इंडेक्स फिंगर) के बीच की जगह पर हल्के हाथों से मसाज कीजिए | यह क्रिया दोनों हाथों में ३ -३ मिनट तक करें आपको बहुत आराम मिलेगा |

सिरदर्द के उपाय (आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति के द्वारा)

1. गाय का घी

सदियों से हमारे ऋषि मुनि गाय की पूजा करते हैं इसका कारण हैं गायके दूध एवं घी की चमत्कारिक शक्ति | गाय का घी रोज रात में एक एक बूँद नाक में डालने से सिर दर्द की समस्या से निजात मिलता है | यह क्रिया लगातार २ – ३ महीने तक करने से आप ज़िन्दगी भर के लिए सिर दर्द की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं |

2. चन्दन

आयुर्वेदिक चन्दन पाउडर में कुछ बूंदे पानी किमीलकर इसका पेस्ट बना ले अब इसका अपने माथे पर लेप करें, चन्दन में मौजूद शीतलता से आपके सिरदर्द में राहत मिलेगी |सिरदर्द से तुरंत निजात पाने मे ये उपाय कारगार है |

3.लौकी का गूदा

अगर आप तीव्र सिरदर्द से पीड़ित हैं तो आप लौकी का गूदा अपने माथे पर रखें, आपको तुरंत आराम मिलेगा | इसके अलावा डेली लौकी का जूस पीने से आपको हार्ट ब्लॉकेज, मोटापा एवं सिर दर्द आदि रोगों से रहत मिलेगी

तीव्र सिरदर्द से पीड़ित है और ये आपका रोज का रोग है तो अपनी दिनचर्या में प्राणायाम को शामिल करें| रोज सुबह ताज़ी हवन एवं प्राकृतिक वातावरण में सिर्फ १० मिनट के प्राणायाम से आप १०० तरह के रोगों से निजात पा सकते हैं |

प्राणायाम द्वारा सिरदर्द का उपचार

1.भ्रामरी प्राणायाम –

भ्रामरी प्राणायाम से मन शांत एवं तनावमुक्त हो जाता है|

  • भ्रामरी प्राणायाम करने के लिए किसी भी शांत वातावरण में जहाँ प्राकृतिक वायु का प्रवाह हो बैठ जाये|
  • ध्यान की मुद्रा में अपनी तर्जनी ऊँगली को अपने कानों पर रखें।
  • अब आपके कान व गाल की त्वचा के बीच में स्तिथ उपास्थि पर अपनी ऊँगली को रखें|
  • अब एक लंबी गहरी साँस ले और साँस छोड़ते हुए,(Sir Dard Ke Upay In Hindi) धीरे से उपास्थि को दबाएँ। आप चाहे तो इसी मुद्रा में कुछ देर रह सकते हैं, यह प्रक्रिया करते हुए लंबी भिनभिनाने वाली (बड़ी मधुमक्खी की तरह ) आवाज़ निकाले |

इस क्रिया को ५ – ७ बार दोहराएं आपको आराम मिलेगा |

2. शीतली प्राणायाम

यह  प्राणायाम भी सिरदर्द की समस्या से रहत पाने में बहुत कारगर है | यह मानव मस्तिष्क के  तनाव को दूर करता है एवं दिमाग को शांत बनाता है |

  • इस प्राणायाम के लिए जमीन पर सुखासन में बैठ जाएं
  • अब अपनी जीभ को बाहर निकालें और मुंह से गहरी सांस अंदर की ओर ले|
  • आपको सांस कुछ इस तरीके से लेना है की की जीभ से होकर हवा शरीर के भीतर की ओर प्रवेश करें|
  • अब मुंह बंद करें और नाक के छिद्रों से सांस को छोड़िये।

इस क्रिया को १० -१५  बार तक दोहराये | आप खुद राहत महसूस करेंगे |

(Sir Dard Ke Upay In Hindi) अपना ख्याल रखिये, अगर सिर दर्द है तो इस आर्टिकल को पढ़े, आप अपना उपचार स्वयं कर सकते हैं | अपने ग्रुप और रिश्तेदारों के साथ शेयर करें |अगर आपके भी अपनी पास दादी -नानी के और भी नुस्खें हैं तो कमेंट जरूर करें|

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here