arthritis bimari ke gharelu upay in hindi

Arthritis Bimari Ke Gharelu Upay In Hindi:- गाठिया रोग कुल्हे , घुटने और हाथ में होने वाला रोग है , जो कि अधिक चलने फिरने और शारीरिक व्यायाम ना करने पर शरीर में पनपने लगता है, जिसके कारण जोड़ो के आसपास सूजन, लालिमा, उठने बैठने में परेशानी, और गाठियां वाला स्थान कमजोर हो जाना आदि समस्याएं होने लगती है| आमतौर यूरिक एसिड को गाठिया रोग की वजह माना जाता है, इसमें यूरिक एसिड के कण घुटनों और जोड़ों के आसपास बढ़ी सेख्या में जमा होने लगते है,और मांसपेशियां अकड़ने लगती है| जिससे असहनीय दर्द उत्पन्न होता है| लेकिन आज हम आपको कोई महंगे इलाज और दवाओ के सेवन के बारे में नहीं बताएंगे| बल्कि ऐसे कुछ घरेलू आसान नुस्खो से आपको परिचित करवाएंगे जोकि आपके इस रोग को नासूर बनने से पहले ही उसका इलाज कर उसे जड़ से खतम कर देंगे….तो चलिए जानते आर्थराइटिस से मुक्ति के उपाए…

आर्थराइटिस रोग के प्रकार (Arthritis Bimari Ke Gharelu Upay In Hindi)

  • अस्थि संधिशोध
  • रुमेटी संधिशोध
  • सोरियासिस संधिशोध

आर्थराइटिस रोग होने के कारण

  • कैल्शियम की कमी
  • खून की कमी
  • दूषित आहार के सेवन के कारण
  • तनाव के कारण
  • मसालेदार और तलाभूना खाने से
  • दवाइयों का ज्यादा सेवन करना
  • हार्मोनल असंतुलन
  • कब्ज और गैस की समस्या होना
  • हड्डियों में यूरिक एसिड का जमा होना

आर्थराइटिस रोग होने के लक्षण –

  • खाना अच्छा न लगना
  • बहुत ज्यादा आलस
  • बुखार आना
  • जोड़ो में सूजन
  • असहनीय दर्द
  • चलने फिरने में कठिनाई होना
  • जोड़ो और घुटनों का लाल पड़ जाना
  • जोड़ो में लचीलापन

arthritis bimari ke gharelu upay in hindi

आर्थराइटिस रोग से बचने के उपाये-(Arthritis Bimari Ke Gharelu Upay In Hindi)

  • लहसून की कलियों को दूध में उबालकर पीने से गाठिया रोग [आर्थराइटिस] में आराम मिलता है |
  • आर्थराइटिस रोग में लाल तेल से मालिश करने से गाठिया रोग में आराम मिलता है |
  • गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पिने से आपको आर्थराइटिस रोग में लाभ मिलता है |
  • नियमित रूप से गोमुखआसन करे आपको गाठिया रोग में राहत मिलता है |
  • मैथी के दानो का चूर्ण बनाकर इसे रोजाना पानी के साथ पिए आपको आर्थराइटिस रोग से मुक्ति मिलेगी |
  • फलों में सन्तरे, मौसमी, केले, सेब, नाश्पाती, नारियल, तरबूज़ और खरबूज़ का सेवन करने से आपके घुटने का दर्द ठीक हो जाता है |
  • आर्थराइटिस रोग से बचाव के लिए आप आहार में ग्लूसकोसामीन और कांड्रायटिन सल्फेआट को शामिल करे ये आपकी हड्डियों और कार्टिलेज के लिए अच्छा होता है |
  • खाने में चोकरयुक्त आटे का प्रयोग करे ये आपको आर्थराइटिस रोग यानि गाठिया रोग से राहत दिलाता है
  • अखरोट की 10-12 गिरी को पानी में भिगोकर खाली पेट करीब एक माह तक सेवन करने से आपके आर्थराइटिस रोग का रोग खत्म हो जाता है |
  • दस कलियों लहसून की दूध में मिलाकर रोज पीने से आपके  में कमी आती है |
  • खाने के बाद बथुए के पानी को रोज सुबह शाम पीने से आपको आर्थराइटिस रोग मे लाय़भ होता है|
  • जामुन के पेड़ की छाल को पानी में भिगोकर इसके पानी का रोज सेवन करने से आपको आर्थराइटिस रोग में राहत मिलती है |
  • अमरुद की 3-4 पत्तियों को पीसकर उसमें थोड़ा सा काला नमक मिलाकर इसके सेवन से आपके गाठियां रोग में लाभ होता है|
  • गाठियां के मरीज को नियमित रुप से 3-4 लीटर पानी पिलाने से उसका आर्थराइटिस रोग ठीक हो जाता है|
  • सरसों के तेल मे 4-5 कलियां लहसून की ड़ालकर इसे गर्म कर लें ,(Arthritis Bimari Ke Gharelu Upay In Hindi) और इससे आप अपने पैरों पर मालिश करें आपके गाठियां का रोग खत्म हो जाएगा|
  • नारियल की गिरी रोज खाने से आपको जोड़ो के दर्द में आराम मिलता है |
  • तिल के तेल में काली मिर्च डालकर इससे अपने घुटनों की नियमित 2 बार मालिश करे आपको जोड़ो के दर्द या आर्थराइटिस रोग में आराम मिलता है|
  • गाजर के रस में नींबू का रस मिलाकर पीने से आपका आर्थराइटिस का दर्द खत्म हो जाता है|
  • एक चम्मच शहद , दालचीनी पाउडर एक गिलास गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से आपका आर्थराइटिस रोग खत्म हो जाता है|
  • एक चम्मच सौंठ को गुनगुने पानी या दूध के साथ रोजाना पीने से आपको आर्थराइटिस रोग में लाभ मिलेगा |
  • अश्वगंधा, आमलकी और शतावरी का चूर्ण बनाकर पानी के साथ रोजाना पिने से आपको गाठिया के रोग से राहत मिलती है|
  • जैतून का तेल लें और इससे आप नियमित अपने जोड़ो की मालिश करना शुरु करें आपको गाठियां रोग से आराम और राहत मिलेगा |

जोड़ो में यूरिक एसिड की वजह से होने वाले दर्द को हम आर्थराइटिस का दर्द कहते है |इस रोग में जोड़ो में सुजन की वजह से चलने फिरने में दिक्कत होती है| कभी कभी ये असहनीय दर्द जोड़ो के आस पास लालिमा भी पैदा कर देता है | लेकिन अगर आहार में ग्लूसकोसामीन और कांड्रायटिन सल्फेआट को शामिल कर लिया जाएं तो ये हड्डियों की कमजोरी को दूर करके उन्हें मजबूत बनाकर आर्थराइटिस के दर्द को खत्म करता है |

(Arthritis Bimari Ke Gharelu Upay In Hindi)अपनी हड्डियों को आर्थराइटिस के रोग से बचने के लिए आप अपनाइये हमारे बताएं गए ये सरल हेल्थ टिप्स…और पढ़ते रहिए हेल्थ सागर पर पोस्टिड हमारे सभी आर्टिकल्स

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here