Cheenk Ka Desi Ilaj, Cheek Aane Ke Karan

Cheenk Ka Desi Ilaj, Cheek Aane Ke Karan:–  बदलते मौसम और बढ़ते प्रदुषण से होने वाली समस्याओ से तो हम सभी भली-भांति परिचित है! बुखार, जुखाम, खांसी और लगातार छींक मौसम में आये परिवर्तन के कारण लगभग हर किसी के साथ बनी रहती है, सर्दियों में इनका होना एक आम समस्या है लेकिन इस दौरान आने वाली लगातार छींके काफी परेशान करती है, जिसकी वजह से हमारा मन न तो काम में लग पाता है और न ही किसी और चीज में! जरा सोचिये, आप अपने दोस्तों और सहकर्मियों के साथ किसी सामाजिक कार्यक्रम में एकत्रित हुए है और ऐसे में आपको छींक आना आपके कार्यक्रम का मजा बिगाड़ सकता है, सर्दी में छींक आना एक आम बात है लेकिन इसके अलावा अन्य समय में छींक आना एलर्जी का कारण हो सकती है!

आज कल के वातावरण को तो हम सभी जानते है बढ़ते प्रदुषण और धूल मिटटी के कारण लगभग हर 3 व्यक्ति को एलर्जी की समस्या से ग्रस्त देखा जाता है,(Cheenk Ka Desi Ilaj, Cheek Aane Ke Karan) जिसकी वजह से जरा सी धूल भी उनकी छींके प्रारंभ करने के लिए काफी होती है, इसीलिए इस तरह के लोग धूल मिटटी वाले क्षेत्रो से जरा बच कर ही चलते है, यदि ये संभव न हो तो आप रुमाल का सहारा भी ले सकते है अर्थात जब भी किसी धूल वाले क्षेत्र से गुजरे अपनी नाक और मुँह को अच्छे से ढक लें, जिससे धूल आपके शरीर में प्रवेश न कर पाए!

इसके अलावा बरसात के मौसम में भी छींके आना एक आम बात है लेकिन ये केवल तभी संभव है जब आप पानी में भीगे या अधिक देर तक बारिश के पानी में रहे. अन्यथा इसकी सम्भावनाएं थोड़ी कम ही रहती है, और भी कुछ कारण है जिनकी वजह से छींके आती है जैसे तेज़ महक, बारिश का पानी, कुछ दवाये, ठंडा मौसम, आद्रता और मौसम में बदलाव आदि! यदि आप भी लगातार छींक आने की समस्या से ग्रसित है तो समझ लीजिये इन्ही में से एक कारण है जिसे आपको ठीक करना है!

ऐसे तो आज कल हर बीमारी का इलाज संभव है लेकिन हर समस्या के लिए डॉक्टरी इलाज का सहारा लेना कहां तक ठीक होगा? इसीलिए आज हम आपको कुछ ऐसे चमत्कारिक घरेलु उपायो के बारे में बताने जा रहे है जो बार-बार छींक आने की समस्या को ठीक करने में मददगार होंगे, और इन उपायो के लिए आपको ज्यादा पैसे खर्च करने की भी जरुरत नहीं है क्योकि इनका निर्माण पूरी तरह घरेलु उत्पादों को मिलाकर किया गया है, तो आईये जानते है क्या है वे उपाय जिनके द्वारा बार-बार छींक आने की समस्या से निजात पाई जा सकती है.

क्या छींक आने पर उसे रोकना नुकसानदेह होता है (Cheenk Ka Desi Ilaj, Cheek Aane Ke Karan)?

जी हां, ये सत्य है की यदि बार बार आने वाली छींक को रोक जाये तो ये आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है. जैसे –

कान को होने वाले नुकसान : छींक आने पर लगभग पूरा शरीर क्रियारत हो जाता है. जिस दौरान नाक, कान, आंख, मस्तिष्क, फेफड़े और पेट सभी अपना-अपना योगदान देते है. छींक आने पर हमारी नाक से 160 किमी./घंटे की गति हवा निकलती है. और यदि हम छींक रोकते है तो ये पूरा दबाब हमारे दूसरे अंगो की ओर मुड़ जाता है. जिसमे सबसे अधिक नुकसान कानों को ही होता है. इस दौरान कान के परदे फटने की संभावना रहती है और हो सकता है सुनने की क्षमता भी चली जाये.

इसके अतिरिक्त छींक रोकने से जो दबाब आता है वो ब्रेन, गर्दन, डायाफ्राम आदि को भी नुकसान पहुँचाता है. साथ ही छींक रोकने से आँखों की रक्त वाहिकाएं भी प्रभावित होती है. इसके अलावा गर्दन में भी मोच आ सकती है. और कई बार दुर्लभ मामलो में दिल का दौरा आने की भी संभावना रहती है.

क्या छींकना जरुरी है?

माना छींकने पर हमें बहुत परेशानी होती है लेकिन इसे रोकने से होने वाले नुकसानों को हम कैसे भूल सकते है. छींकने से हमारे शरीर में मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया बाहर निकल जाते है. और यदि हम छींक रोक लेते है तो ये विषाणु हमारे शरीर के अंदर ही रह जाते है जो बाद में बिमारियों का कारण बन सकते है. इसीलिए जब भी आपको छींक आये उसे रोके न. और हमेशा रुमाल रख के छींक लें. इससे किसी अन्य को भी परेशानी नहीं होगी और न ही आपको शर्मिंगी महसूस होगी.

बार-बार छींक आने के घरेलु उपचार

पिपरमिंट तेल :- Cheenk Ka Desi Ilaj, Cheek Aane Ke Karan अगर आपको भी बार-बार छींक आने की समस्या से परेशान है तो इससे निजात पाने के लिए आप भी पिपरमिंट के तेल को प्रयोग में ला सकते है, इसमें पाए जाने वाले anti bacterial गन आपकी इस समस्या को जड़ से खत्म करने में मदद करेंगे! इसके लिए किसी बड़े बर्तन में पानी को उबाल लें, अब इसमें 5 बून्द पिपरमिंट तेल डालें, किसी तौलिये की मदद से अपने सर को ढक लें और इससे पानी की भाप लें, यकीन मानिये इस उपचार से आपको छींक आने की समस्या में आराम मिलेगा!

सौंफ की चाय :- छींक के साथ-साथ श्वास संबंधी अन्य समस्यायों में भी फायदेमंद मानी जाती है सौंफ प्रकृति की इस देन में भी कई एंटीबायोटिक और एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते है जो आपकी समस्या को ठीक करने में मदद करते है. बार-बार छींक आने की समस्या में इसका प्रयोग करने के लिए एक कप पानी को उबालकर उसमे दो चम्मच सौंफ पीसकर डालें. लगभग 10 मिनट तक पानी को ढक कर रखे. और बाद में छानकर पी लें. इस चाय का सेवन दिन में दो बार करें. आपकी समस्या चुटकियो में हल हो जाएगी.

काली मिर्च :-

ये केवल दिखने में ही अजीब होती है लेकिन स्वास्थ्य के प्रति इसके फायदों को जानकर आप हैरान हो जायेंगे, जी हां.. (Cheenk Ka Desi Ilaj, Cheek Aane Ke Karan) आपके खाने को स्वादिष्ट बनने वाली काली मिर्च आपकी बिमारियों को ठीक करने में भी सक्षम है, यदि आप भी बार-बार छींक आने की समस्या से ग्रसित है तो गुनगुने पानी में आधा चम्मच काली मिर्च डालकर उसे मिला लें, अब इस मिश्रण को दिन में कम से कम दो से तीन बार पियें, आप चाहे तो काली मिर्च के पाउडर को पानी में उबालकर गरारे भी कर सकते है!

लहसुन :- लहसुन में पाए जाने वाले एंटीबायोटिक और एंटीवायरल गुण न केवल आपको श्वास संबंधी बिमारियों से बचाते है अपितु उसे ठीक करने में भी मदद करते है, इसके अलावा स्वाश संबंधी संक्रमण होने पर भी ये बहुत लाभकारी होता है, यदि आपको भी बहुत छींके आती है तो लहुसन आपकी इस समस्या को हल करने में आपकी मदद कर सकता है, इसके लिए पांच से छह लहसुन की कलियों को पीसकर उनका पेस्ट बना लें और उन्हें सूंघे, इसके साथ ही दाल और सब्जी बनाने में भी लहसुन का प्रयोग करें!

अजवाइन :- अजवाइन की पत्तियों के तेल में बैक्टीरिया और विषाणुओ से लड़ने की तेज़ क्षमता पायी जाती है, इसके साथ ही ये एलर्जी को ठीक करने में भी बेहद मददगार उपाय है, इसके लिए अजवाइन के तेल की दो से तीन बूंद का रोजाना इस्तेमाल करें, समस्या में आराम मिलेगा!

मेथी की बीज :- Cheenk Ka Desi Ilaj, Cheek Aane Ke Karan मेथी में पाए जाने वाले एंटी बैक्टीरियल गुण आपकी लगातार छींको का उपचार करने में मददगार हो सकते है, क्योकि ये छींक का उपचार कर श्लेष्मा झिल्ली को शांत करता है, इसके लिए पानी में दो चम्मच मेथी दाने मिलाकर उसे उबाले, अब इस मिश्रण का सेवन करें, समस्या ठीक न होने तक दिन में दो से तीन बार इसका सेवन करते रहे फ़ायदा मिलेगा!

कैमोमाइल चाय :- एलर्जी की समस्या को ठीक करने के लिए कैमोमाइल चाय एक अच्छा उपाय है,  इसमें मौजूद एंटी हिस्टामाइन गुण छींक की समस्या में आराम देने में सहायता करता है, इसके लिए उबलते हुए पानी में एक चम्मच कैमोमाइल के सूखे फूल को मिलाएं और कुछ देर तक उबलने दे, अब इसमें एक चम्मच गाढ़ा शहद मिलाएं, इसके बाद पानी को निकाल लें और दिन में दो बार इसका सेवन करें!

(Cheenk Ka Desi Ilaj, Cheek Aane Ke Karan) आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा और इससे संबंधित अगर आप हमें कोई अपना सुझाव देना चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में आप कमेंट कर सकते हैं।

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here