fever ka desi ilaj in hindi

Fever Ka Desi Ilaj In Hindi:- मानसिक थकान और शारीरिक तनाव की वजह से तो हर किसी को कभी न कभी बुखार हुआ ही होगा ,जिसके लिए आप सभी ने छोटे मोटे घरेलु उपाए करके, या एंटी बायोटिक दवाओं के सेवन से अपने बुखार से राहत पा ली होगी| लेकिन इन्फेक्शन और मौसमी परिवर्तन की वजह से हुआ ये आम सा दिखने वाला बुखार कब गंभीर हो जाता है , आपको पता भी नहीं चलता और धीरे धीरे ये बुखार आपके  शरीर और दिमाग में जमकर बैठ जाता है – जैसे वायरल फीवर के रूप में,टाइफाइड और मलेरिया आदि के रूप में |लेकिन सोचिये अगर आप सभी बुखार के लक्षण ,प्रभाव और उपचार से अच्छी तरह से परिचित होगें | तो आपको इनसे दोबारा कभी संक्रामित होने का डर ही नहीं सताएगा….तो चलिए पढ़ते है बुखार से बचाव के उपायों के बारे में विस्तार से –

बुखार को ठीक करने के उपाए – (Fever Ka Desi Ilaj In Hindi)

  • ठंडा पानी – यदि आपको भी बुखार आ गया है ,तो सबसे पहले उसका शारीरिक तापमान देखे| फिर उसकी ठन्डे पानी में साफ़ सूती कपडा भिगो कर उसके सिर के ऊपर रखे |ऐसा तब तक करें जब तक उसके तामपान में कोई कमी ना आये |
  • तुलसी – तुलसी एक एंटी बायोटिक हर्ब है ,जोकि हर तरह की बीमारी में असरदार साबित होती है |तुलसी की पत्तियों को शहद , अदरक और 2 कप पानी एक बर्तन में डाल कर इसे उबाले इसके बाद इसका सेवन करें ,आपको फीवर में आराम मिलेगा |
  • सेब का सिरका – सेब का सिरका जरुरी विटामिन और मिनरल्स शरीर को देता है ,शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढा़ता है |एक गिलास में दो चम्मच सेब का सिरका डाले और थोड़ा सा शहद मिलाकर इसे पियें आपको बुखार से राहत मिलेगी |
  • लहसुन – लहसुन गर्म होता है, इसमें एंटी फंगल और एंटी बैक्टीरीयल तत्व होते है |जो शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है |शरीर में मौजूद विषाक्त कणों को बाहर निकल कर शरीर की इमुनिटी को बढाता है |
  • किशमिश – किशमिश में बुखार से लड़ने के गुण पाए जाते है |किशमिश को रात भर भिगो कर रखने के बाद इसके पानी को पिए , या इसके जूस को रोगी को पिलाये आपको बुखार में राहत मिलती है |
  • अदरक – अदरक में शरीर की गर्मी को ठीक रखता है |ये शरीर में पसीने ला कर शरीर में मौजूद बुखार के तत्वों को बाहर करता है |जिससे थोड़ी देर में ही रोगी के तापमान में अंतर दिखने लगता है |
  • पुदीना- पुदीने में जो तत्व पाए जाते है|वो शरीर को ठंडा रखने में लाभकारी साबित होते है ,(Fever Ka Desi Ilaj In Hindi) 10 से 12 पुदीने की पत्तियां लें ,इनको पीसकर या उबाल कर इसमें शहद मिला के इसका सेवन रोगी को करवाइए |आपका बुखार कम हो जाएगा|
  • अंडे का सफ़ेद भाग – एक और दो अंडे के सफ़ेद भाग को ले और इसे आप अपने पैरों और हाथों पर लगाइए |आपको रोगी के तापमान में अंतर नजर आएगा|
  • हल्दी – हल्दी बुखार में बड़ी ही फायेदा करती है |ये बुखार फ़ैलाने वाले हानिकारक तत्वों को शरीर से बाहर करती है |हल्दी को एक गिलास दूध में जरा सा मिला कर रोगी को देने से बुखार में आराम मिलता है |
  • चन्दन – 2 चम्मच चंदन में पानी मिलाकर इसका पेस्ट बनाइए और इस पेस्ट को रोगी के माथे पर लगाइए , बुखार से रोगी को राहत मिलेगी |

fever ka desi ilaj in hindi

  • लौंग और शहद की गोली – शहद और लौंग की गोलियां बनाकर रोगी को खाने के लिए दें, आपको बुखार में आराम मिलेगा |
  • दालचीनी – बुखार में दालचीनी का पानी रोगी के लिए बड़ा ही असरदार साबित होता है |
  • लहसुन वाले तेल की मालिश- बुखार में रोगी के शरीर का तापमान ठीक रखने के लिए आप रोगी की लहसुन वाले तेल से मालिश करें |
  • अदरक वाली चाय –बुखार होने पर रोगी को अदरक की कड़क चाय दो टाइम सुबह और शाम को पीने के लिए दे |
  • मुनक्का – बुखार में अगर रोगी को मुनक्के का पानी पीने के लिए दिया जाये तो विशेष आराम मिलता है |
  • गुनगुना पानी – मरीज के शरीर में बुखार के दौरान ये ध्यान रखें कि पानी की कमी ना हों , उसे हर दो घंटे के अंतराल पर गुनगुने पानी का सेवन करवाइए|

(Fever Ka Desi Ilaj In Hindiऐसा कहा जाता है की आपको कभी बुखार आता है तो ये संकेत है की आपकी बॉडी में जल्द ही कोई बड़ी बीमारी पनपने वाली है | आमतौर पर शरीर का तापमान 37 डिग्री [98.6] सेल्सियस से अधिक चले जाने पर बुखार होता है |लेकिन हमने जो उपाए आपको बताये उनको अमल में ला कर आप इससे बचे रह सकते है | और अगर आपको हमारी पोस्ट्स अच्छी लगती है तो इसे लाइक और शेयर करना ना भूले |

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here