Heart Attack Ki Bimari Se Bachne Ke Upay In Hindi

Heart Attack Ki Bimari Se Bachne Ke Upay In Hindi:- आजकल की भागदौड़ भरी जिन्दगी में तनाव और सेहत से जुड़ी छोटी मोटी समस्या होना तो आम बात है लेकिन आज हम जिस रोग की अपने इस आर्टिकल में बात करने जा रहे है |वो हार्ट से जुडी एक ऐसी बीमारी है , जोकि अब आम बनती जा रही है|हार्ट अटैक जिसे मेडिकल की भाषा में रोध्ग्लन और तीव्र रोध्ग्लन भी कहा जाता है |इस रोग में हार्ट में ब्लड सर्कुलेशन ठीक से नहीं हो पाता |जिससे मांसपेशियों को ठीक से आक्सीजन नहीं मिल पाता और हार्ट अटैक की स्तिथि उत्पन होती है| कई बार महंगे इलाज और परामर्श भी इसे रोक नहीं पाते | लेकिन आज हम जो नुस्ख़े आपको बताने जा रहे है उन्हें  प्रयोग करके आप बिना ज्यादा पैसे खर्च किये हार्ट अटैक की खतरनाक बीमारी से बच सकते हैं |

हार्ट अटैक होने के लक्षण –(Heart Attack Ki Bimari Se Bachne Ke Upay In Hindi)

1 इसमें अचानक छाती में दर्द शुरू होता है ,जोकि एक बार शुरू होता है बंद हो जाता है और फिर दोबारा बंद हो जाता है |ऐसे में छाती में निचोड़ , भारीपन और कब्ज़ होने जैसा महसूस होता है |

2 शरीर के उपरी भाग में बैचैनी होने लगती है | जैसे – कन्धा , पीठ, गर्दन , जबड़ा , और हाथ आदि |

3 दिल का दौरा पड़ने से पहले आपको साँस फूलने की समस्या होने लगती है और फिर धीरे धीरे आपकी छाती में दर्द भी शुरू हो जाता है |

4 बार बार चक्कर आना और आँखों के सामने अँधेरा सा छा जाना इसमें होता है |

5 दिल का दौरा आने से पहले पसीना आना आम बात है | दिल के मरीजो में ऐसे लक्षण पाए जाते है |

6 कोलेस्ट्रोल के दवाब को हमेशा संतुलित रखें ,130 एमजी/ डीएल के ऊपर कोलेस्ट्रोल को न जाने दे |

7 तेल का प्रयोग भोजन में कम मात्रा में करें , क्योंकि ये हार्ट में कोलेस्ट्रोल के स्तर को बढा़ता है |

8 यदि आप हार्ट के मरीज है तो आप ये ध्यान रखें कि तनाव बिल्कुल ना पालें |

9 हार्ट के रोगियों को अपना वजन हमेशा सयंमित रखना चाहिए |

heart attack ki bimari se bachne ke upay in hindi

10 मधुमेह के रोगियों को तो हार्ट से जुडी बीमारी अगर लगी हो तो विशेष ध्यान देना चाहिए , ऐसे में उनको अपना शुगर 100 एमजी/ डीएल के निचे ना जाये ये ध्यान रखना चाहिए ,(Heart Attack Ki Bimari Se Bachne Ke Upay In Hindi) जो की खाने के 2 घंटे बाद करीब 140 एमजी/ डीएल होना चाहिए |

11 हार्ट अटैक आने पर पेशेंट को अक्सर उल्टी आने जैसा लगता है, इसके लिए आप रोगी को उल्टी तरफ मुड़ कर उल्टी करने को कहें ताकि उल्टी लंग्स में ना भर पाए , जिससे लंग्स को कोई नुक्सान न हो सके |

12 हार्ट अटैक आने के दौरान रोगी को कोई भी चीज़ खिलाने की कोशिश ना करे |

13 लौकी का सेवन हार्ट के रोगी के लिए सबसे उत्तम होता है |इससे आप जूस के रूप में भी इस्तेमाल में ला सकते है , लेकिन याद रखे की लौकी कड़वी ना हो |

14 तुलसी के पत्तो का जूस निकलकर पिए ,आपको हार्ट की परेशानियों में राहत मिलेगी |

15 पुदीने में नमक मिलाकर पीने से भी हार्ट रोगियों को लाभ मिलता है |

16 भोजन में अगर अलसी का प्रयोग किया जाये, तो ये हार्ट रोगियों को ये लाभ देता है| इसमें मौजूद  अमेगा 3 फैटी एसिड आपके दिल को जवान रखता है |

17 अर्जुन की छाल दिल की सभी बीमारियों के लिए असरदार साबित होती है |इसके अलावा अगर अलसी की चाय पी जाये तो वो भी बड़ी ही लाभकारी होती है |

18 मिश्री और सुखा आंवले को पीसकर , इसके चूर्ण को रोजाना एक चम्मच पीने से आपको आराम मिलता है |

19 घी में गुड मिलाकर अगर खाया जाये तो आपको हार्ट से जुडी परेशानियों से छुटकारा मिलेगा |

20 शहद में पाए जाने वाले तत्व आपके हार्ट के लिए बड़े ही असरदार साबित होते है ,(Heart Attack Ki Bimari Se Bachne Ke Upay In Hindi) एक चम्मच शहद का सेवन अगर रोज किया जाएं तो हार्ट की परेशानियों से छुटकारा मिलता है |

हार्ट की बीमारी को दूर भागने के लिए ये कुछ योग जो आपको फायेदा करेंगे –

  • भस्त्रिका प्रणायाम
  • कपालभाती प्रणायाम
  • अनुलोमविलोम प्रणायाम
  • भ्रामरी प्रणायाम
  • उदिंत प्रणायाम

चलिए अब जरा ये भी जानने की कोशिश करते है की दिल के दौरे की बीमारी होने के कारण क्या होते है –

  • बढती उम्र
  • स्मोकिंग
  • उच्च रक्तचाप
  • मधुमेह
  • मोटापा
  • व्यायाम न करना
  • नशा करना
  • लिपिड का स्तर असमान्य होना
  • क्रोनिक किडनी की बीमारी

(Heart Attack Ki Bimari Se Bachne Ke Upay In Hindi) मांसपेशियों में खून ना पहुंचने के कारण हृदय काम करना बंद कर देता है जिस कारण हृदय की मांसपेशियों में तेज़ दर्द होता है और हार्ट अटैक की स्तिथि उत्पन्न हो जाती है | अगर आपको हमारे द्वारा शेयर किये गये आर्टिकल पसंद आते है तो लाइक करे शेयर करे , कमेंट बॉक्स में पूछे अपने सवाल ……

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here