kaan ka behna ka ilaj in hindi

Kaan Ka Behna Ka Ilaj In Hindi:- कान में मैल जम जाने के कारण और किसी फुंसी के फक जाने के कारण कान का बहना शुरु हो जाता है| यह कान में गंदगी के कारण कान में निकली फूंसी से मवाद बेहने के कारण होता है|ये जख्म जल्दी नहीं भरते और कान से खून तक निकलने की नौबत आ जाती है| कान के बहने का ये दर्द आपको और परेशान ना करें इसके लिए आप हमारे इन इलाज को अपनाकर इस दर्द को खुद से दूर रख सकते है|

जानें कान के बहने का क्या करें उपचार (Kaan Ka Behna Ka Ilaj In Hindi)

  • कान के मैल को कान से बाहर निकालने के लिए आप तिल के तेल को गर्म करके अपने कान में डाले |आपको कान के बहने और कान में फंसी की समस्या दोनों से निजात मिल जाएगा|
  • अगर कान दर्द कान में पानी के भर जाने के कारण हो रहा है तो कुछ देर कान को उल्टा करके रखें आपको कान के दर्द और बहने दोनों में आराम मिल जाएगा|
  • चूने की एक दो बूंद कान में डालने से कान का बहना बंद हो जाता है|
  • कान में किसी फोडे या फूंसी के कारण कान बह रहा है तो प्याज का रस हल्का गुनगुना करके कान में डाले आपको कान के बहने की परेशानी से छुटकारा मिल जाएगा|
  • अदरक और शहद में जरा सा नमक मिलाकर इसे कान में ड़ालने से कान का बहना ठीक हो जाता है |
  • कान के बहने का इलाज एंटीबायोटिक्स से किया जाता है|जैसे कि बाह्य कान के इलाज में रोगी को टोपिकल वाले एंटीबायोटिक्स  दिए जाते है, (Kaan Ka Behna Ka Ilaj In Hindi) इसके अलावा कान की सफाई करके टोपिकलस दिए जाते है और सर्जरी की जाती है |टेम्पोरल बोन को फेक्चर होने पर एंटीबायोटिक्स दिए जाते है और अंतिम इलाज का तरीका जिसमें ग्रोमेट को साफ करके उसमे एंटीबेक्टीरियल ड्राप डाली जाती है |
  • कान में यीस्ट और फंगल इंफेक्शन होने पर हल्दी और फिटकरी को पीसकर इसका चूर्ण बनाकर इसे अपने कान में डाले आपको कान के बहने से निजात मिल जाएगा|
  • सरसो के तेल को हल्का गर्म करके इसे अपने कान में डाले आपको कान के बहने से जल्द ही निजात मिलने लगेगा|
  • नीम का तेल हल्का गुनगुना करके कान में रुई की मदद से लगाएं आपको कान के बहने से निजात मिल जाएगा|
  • जूही के पत्तों को तेल में मिलाकर इसे हल्का गर्म करके अपने कान में डाले आपके कान का बहना बंद होने लगेगा|

कान के बहने के लक्षण

  • कान में खुजली
  • कान में मैल का जमा होना
  • कान में फूंसी का पक जाना
  • कान से मवाद निकलना
  • सिरदर्द और बुखार

हमारे शरीर की मुख्य ज्ञानेन्द्रिय जो कि सुनने का काम करती है , शरीर में कान की रचना तीन तरह से हुई है जैसे-मध्य कर्ण, बाह्य कर्ण और अंतः कर्ण आदि| अंतःकर्ण में रोगी को उल्टी आना , चक्कर आना और कान मे विभिन्न आवाजें सुनाई देती है |मध्य कर्ण में खांसी , जुकाम और टांसिलाइसिस आदि इसके अलावा अन्तिम कर्ण का भाग बाह्य कर्ण में सूजन और लालिमा होना जैसे लक्षण रोगी को दिखाई पड़ते है|

(Kaan Ka Behna Ka Ilaj In Hindi) आज हमने आपको कान के बहने के कुछ उपाये और इलाज बताएं जिसको अपनाकर आप कान का बहना बंद कर सकते है …..अगर आपको हमारे शेयर किए ये आर्टिकल्स पंसद आते है तो इन्हे लाइक और शेयर करें|

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here