kutte ke katne par prathmik upchar in hindi

Kutte Ke Katne Par Prathmik Upchar In Hindi:- क्या आप भी पशु प्रेमी है और कुत्ते , बिल्ली ,घोडे जैसे कई पालतू पशुओं और जीवो को पालने का शौक रखते है , लेकिन इसके लिए पैट पालने जुडी सावधानियों और उसकी हर गतिविधि पर अपना पूरा कंट्रोल बनाए रखना जरुरी है…आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्म से यही बताने का प्रयास करेगें कि कुत्ते के काटने पर क्या प्राथमिक उपचार करना चाहिए….

कुत्ते का काटना – वैसे तो कुत्ता एक बेहद ही वय़फादार और भरोसेमंद जीव है लेकिन इसके परे कुत्ता यदि अक्रामक होकर आपको काट लें तो कुत्ते की लार में मौजूद विष आपकी सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकता है| लेकिन पालतू कुत्तो के साथ आपकी सेहत को ज्यादा नुकसान होने का खतरा नहीं होता ,लेकिन आवारा कुत्तों के काटने पर रैबिज जैसे जानलेवा रोग का शिकार आप हो सकते है ,क्योकि इन कुत्तों को जरुरी वैक्सीन नहीं लगाएं गए होते ,जो कि मनुष्य को कुत्ते के हानिकारक विष से बचाने में मददगार साबित होते है ऐसे में आप इन कुत्तों के काटने पर खुद का बचाब कैसे करेंगे आज हम आपको .ही बताने का सफल प्रयास करेंगे…

कुत्ता काटने का प्रथमिक उपचार Kutte Ke Katne Par Prathmik Upchar In Hindi

  • कुत्ता, बिल्ली,आदि जानवर के काटने पर सबसे पहले करीब 15 मिनट तक साबुन से अच्छी तरह उस स्थान को धोयें|
  • घाव पर मिट्टी का तेल ,(Kutte Ke Katne Par Prathmik Upchar In Hindi) चूना, नीम की पत्ती,एसिड और पिसी मिर्च भूलकर भी ना लगायें|
  • घाव को धोने के बाद इस पर एंटीसेप्टीक क्रीम, लोशन ,स्प्रिट और बिटाडीन आदि लगायें|
  • घाव को खुला छोडे लेकिन खून के ज्यादा रिसाव होने पर घाव पर केवल पट्टी ही बांधे|
  • घाव पर टांके भूलकर भी ना लगवाए|
  • कुत्ते के काटने के 24 घंटे के भीतर डॉक्टर को दिखाएं और जरुरत पड़ने पर वैक्सीन लगवाए|

कुत्ता काटने के कुछ और उपयोगी उपचार-

  • Hydrophobinum 200  नाम की दवा कुत्ते के काटने में बेहद लाभकारी होती है, इसे 10-10 मिनट पर जीभ पर दिन में तीन ड्रोप डालना चाहिए है  |इसके प्रभाव से रोगी को इंजेक्शन लगवाने की जरुरत नहीं पड़ेगी|
  • कुत्ते के काटने वाले स्थान पर यदि चूहे की मेंगनी को पीसकर लगाया जाए तो कुत्ते के हानिकारक बैक्टीरिया रोगी को क्षति नहीं पहुंचा पाते है|
  • काली मिर्च और जीरा पीसकर कुत्ते के काटने वाली जगह पर लगाने से कुत्ते के विष का असर खत्म हो जाता है|
  • सूखा लहसून और आम की की कहते घाव वाले स्थान पर भरने से कुत्ते के जहर का असर तुरंत उतर जाता है|
  • सत्यानाशी की जड को दही में पीसकर इसे रोगी को खिलाने से कुत्ते के काटने पर रोगी को रैबीज रोग नहीं होता |

कुत्ता काटने के लक्षण

  • लाल होना
  • खून निकलना
  • सूजन
  • मवाद और पस पड़ना
  • घाव वाली जगह पर दर्द होना
  • बुखार होना
  • उल्टी आना
  • पानी से डरना
  • हिंसक व्यवहार
  • तेज प्रकाश से घबराना

कुत्ते की लार में मौजूद विष पीड़ित को रैबीज जैसे संक्रमण का शिकार बना सकता है , मनुष्य में रैबीज 5 फीसदी लोगो में होता है जोकि उचित देखरेख और साबधानी बरतने के बाद समाप्त किया जा सकता है|कुत्ते का यह जावलेवा विष पेरिब्रेल नर्व के माध्यम से तंत्रिका तंत्र तक पहुंच कर रोगी के मस्तिष्क पर अटैक करता है जिससे रोगी के कोमा में जाने का खतरा बढ़ जाता है|

(Kutte Ke Katne Par Prathmik Upchar In Hindi) आज हमने आपको कुत्ते के काटने पर किए जाने वाले प्राथमिक उपचार के बारे में आपको बताया जिसे अपनाकर आप रैबीज जैसे जानलेवा रोग से अपना बचाब कर सकते है….यदि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया तो इसे लाइक और शेयर करें

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here