safed piliya ka ilaj in hindi

Safed Piliya Ka Ilaj In Hindi:- हेपेटाइटिस और पीलिया नाम से जाने जाने वाले रोग की आज हम बात करेंगे |जिसमें व्यक्ति के शरीर के ज्यादातर हिस्से पीले पड़ जाते है| जिसमें आंखे, नाखून और त्वचा विशेषकर पीली नजर आती है| यह रोग शरीर में एक बेहद सूक्ष्म कीटाणु और वायरस के कारण होता है |बिलिरुबीन नाम की संक्रमित जीवाणु लीवर में तो क्षति पहुंचाता ही है| ब्लकि शरीर में लाल और सफेद रक्त कणों के निर्माण को भी प्रभावित कर देता है |सफेद पीलिया ठीक होने में लगभग 12 सप्ताह का समय लगता है |

लिवर से जुड़ी अहम जांचे जो कि आपकी ये जानने में मदद करेंगी कि आप सफेद पीलिया से ग्रस्त है या नहीं-

  • लिवर फंक्शन टेस्ट
  • रक्त परिक्षण
  • एमआरआई स्कैन
  • पेट की अल्ट्रासोनोग्राफी
  • सीटी या कैट स्कैन
  • एन्डोस्कोपिक टेस्ट

पीलिया के प्रकार –

  1. हेपेटोसेल्यूलर– लिवर की बिमारी या चोट के कारण ये पीलिया होता है|
  2. हेमोलिटिक –यह हेमोलिसिस लाल रक्त कोशिकाओं के पतन के कारण होता है ,जिससे बिलीरुबिन ज्यादा बनता है
  3. ऑब्सट्रक्टिव– पित्त नलिका में रुकावट के कारण होता है, जो बिलरुबिन को जिगर से जोड़ती है|

सफेद पीलिया में इन चीजों से करें परहेज-(Safed Piliya Ka Ilaj In Hindi)

  • तीखे और नमकीन पदार्थों के सेवन से बचें
  • शराब, और मांसाहार का सेवन ना करें
  • रक्तदान से बचें
  • वजन को ना बढ़ने दें

इन चीजों को अपनाएं-

  • संतुलित और हल्का सुपाचएं भोजन ग्रहण करें
  • व्यायाम और योग को अपनाएं
  • गुनगुने पानी का सेवन करें
  • रसीले फल और रेशेदार सब्जियों का सेवन करें

सफेद पीलिया को ठीक करने के घरेलू उपचार-(Safed Piliya Ka Ilaj In Hindi)

1 सबसे पहले रोगी को अपने वजन के ना बढ़ने का पूरा ध्यान रखना चाहिए,ऐसे रोगी जिनको शुगर हो और वजन भी बढ़ा हो तुरन्त अपने वजन को संयमित करें |वजन को कम करने के लिए मत्स्यासन ,भुजंगासन,उत्तान पादासन, और प्रणायाम जैसे योग और आसानों का प्रयोग करें|

2 वैक्सीन इंजेक्शन को संक्रमण से पहले लगाकर रोका जा सकता है

3 मूली के रस में पाएं जाने वाले पोषक तत्व बिलिरुबीन को खून और वायरस से निकाल देता है जिससे सफेद पीलिया का असर कम हो जाता है|

4धनिया के बीज को रातभर पानी में भिगोकर रख दीजिए और फिर इस पानी को रोजाना पियें आपको सफेद पीलिया से छुटकारा मिल जाएगा|

5 नींबू के रस को पानी में मिलाकर रोज रोगी को पिलाइएं,सफेद पीलिया कम हो जाएगा|

6 सफेद पीलिया में रोगी को दही का सेवन करवाना शुरु करें दही में मौजूद बैक्टीरिया भोजन को जल्दी पचाने में काफी फयदेमंद होता है|

7 तुलसी एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक है जो कि पीलिया के विषाक्त विषाणुओं को शरीर से बाहर करने में काफी असरदार रहती है|नियमित 3-4 तुलसी की पत्तियों का सेवन रोगी को करवाएं|

सफेद पीलिया एक संक्रमित जीवाणु के कारण होता है, शरीर में इस जीवाणु के प्रवेश के बाद यह कम से कम 2 से 3 हफ्ते में शरीर में पूरी तरह से विकसित होने लगता है|सामान्य तौर पर सफदे पीलिया की तीन अवस्थाएं देखी गई है-पहली अवस्था में रोगी को ज्वर और भूख ना लगना जैसा लगता है,जबकि दूसरी अवस्था में रोगी के शरीर पर ये साफ दिखने लगता है रोगी का शरीर,नाखून और पुंह पीला पड़ने लगता है और एनीमिया का प्रभाव शरीर पर पड़ने लगता है और अन्तिम अवस्था यानि तीसरी अवस्था में रोगी के शरीर से सफेद पीलिया का नकारात्मक प्रभाव कम होने लगता है और 1 से डेढ माह के भीतर रोगी बिल्कुल ठीक और स्वस्थ होने लगता है |

(Safed Piliya Ka Ilaj In Hindi) आज हमने आपको सफेद पीलिया के बचाव के घरेलू लक्षणों के बारे में बताया जिसे प्रयोग में लाकर आप सफेद पीलिया के प्रभाव में आने पर भी इससे अपना बचाब कर सकते है….जुड़े रहिए हैल्थ सागर के साथ

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here