what is the best medicine for piles in india 2018

What is the Best Medicine for Piles in India 2018? – दोस्तों पाइल्स किसी के लिये भी एक खतरनाक बीमारी साबित हो सकती है और साथ ही साथ दर्दनाक भी, इसमें आपको मल निकासी के साथ खून आने की भी शिकायत होती है।

पाइल्स को ठीक करने के लिये हम अक्सर इधर से उधर भटकते रेहते है पर कभी भी असरदार और ऐसा इलाज नही मिलता जिससे हमेशा के लिये पाइल्स से छुटकारा मिल जाये, पर दोस्तों अब आपको और ज्यादा निराश होने की जरूरत नही आज हम आपके लिये एक ऐसा बेहतरीन प्रोडक्ट purely herbs cure piles कैप्सूल्स लाये है जिसका सेवन आपको हमेशा के लिये दर्दनाक पाइल्स से छुटकारा दिला देगा।

What is the Best Medicine for Piles in India 2018? Purely Herbs Cure Piles का सेवन करने के पाइल्स में फायदे।

  • रक्तस्राव को बंद कर देता है।
  • दर्द कम कर देता है
  • गांठ को हटा देता है
  • कब्ज में राहत देता है
  • इंफ्लामेड रेक्टल एरिया को सही कर देता है।
  • घाव को सूखा देता है जिससे उसमें खुजली कम हो जाती है।
  • गुदा उथल में राहत देता है

बवासीर के लिए हमारी हर्बल दवाओं में निम्नलिखित तत्व होते हैं –

  • मेसुआ फेरेआ (स्टैमन) -175 मिलीग्राम पुंकेसर मेसुआ फेरेआ (नाग्केसर) के सूखे फूलों से निकाले जाते हैं। यह खूनी बवासीर का इलाज करता है यह पेचिश का भी इलाज करता है जहां बलगम का निर्वहन होता है।
  • मेलीया अज़ाडिराचल (स्टेम बार्क)
  • 175मिलीग्राम

यह रक्त को शुद्ध करके,(What Is The Best Medicine For Piles In India 2018) पाचन में सुधार और गैस और अम्लता की समस्या का इलाज करके बवासीर को ठीक करता है। यह घाव और सूजन को ठीक करता है जैसा कि हम रक्तस्रावी परिस्थितियों में जानते हैं, वह एक सूजन है जिसमें रक्ताभक्षी रक्त वाहिकाओं शामिल हैं। स्टेम के सूखे छाल के कसैले गुण मिले हैं, इसलिए यह रक्ताभंग के रक्त वाहिकाओं को मुहर लगाता है। आयुर्वेद के अनुसार, यह गैस्ट्रोएन्टेरिटिस की समस्याओं के लिए एक उत्कृष्ट जड़ी बूटी है। यह हर्बल बवासीर दवा के सबसे महत्वपूर्ण घटकों में से एक है।

अजादिराछा इंडिका (बीज) – 175 मिलीग्राम यह रक्त के विषाक्तीकरण भी करता है इसमें एंहल्मिंटिक, एंटिफंगल, जीवाणुरोधी, एंटीवायरल और शामक कार्रवाई भी होती है। इसमें कसैले गुण भी होते हैं। यह जठरांत्र संबंधी ऐंठन को भी नियंत्रित करता है।

बरबेरीस अरस्टाटा (स्टेम) – 175 मिलीग्राम

यह ऐंठन से राहत देता है बवासीर के उपचार के लिए यह हर्बल दवाएं गुदा क्षेत्र में रक्त वाहिकाओं पर दबाव कम करती हैं।

  • कलमी शोर (सल्पटपेत्र पूरे भाग) – 100 मिलीग्राम
  • सल्पटपिरे में पोटेशियम नाइट्रेट मिला है। यह रक्त वाहिकाओं को फैलाता है और रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है
  • इसको इस्तेमाल करने का सही तरीका –
  • ठंडे दूध या छाछ के साथ भोजन के बाद रात में एक गोली लेनी चाहिए।
  • पूरे दिन में बस 1 गोली रात में सोने से पहले लेना ही काफी है।

तो दोस्तों अब मुस्कुराते रहिये, अब आपको और निराश होने को आवश्यकता नही purely herbs cure piles आपके पुराने से पुराने पाइल्स को भी जड़ से खत्म कर देगा।

(What Is The Best Medicine For Piles In India 2018) आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा और इससे संबंधित अगर आप हमें कोई अपना सुझाव देना चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में आप कमेंट कर सकते हैं ।

SHARE
हेलो दोस्तो, मैं हिना खान Health Sagar से , ये मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे हैल्थ सागर के माध्यम से आप लोगों के साथ जुड़ने का मौका मिला |मैं PHD नुयूट्रीशियन हूं और हेल्थ से जुड़े काफी विषयों पर मैंने अध्धयन भी किया है, हैल्थ सागर के रुप में मुझे अपने अनुभव और ज्ञान को लोगो तक पहुंचाने का अवसर मिला है| मुझे यकीन है की यहां शेयर किए गए हेल्थ से जुड़े सभी विषय सूचनात्मक और अध्ययनकारी है, जिसे पढ़कर आपको भी बहुत ही लाभ मिलेगा | धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here